कहाँ झूलेंगी बिटिया रानी — डी के निवातिया

कहाँ झूलेंगी बिटिया रानी

***

बरगद, पीपल, शीशम, नीम पुराने सब काट दिये
घर के आँगन और चौबारे छोटे टुकड़ो में बाँट दिये
कहाँ झूलेंगी बिटिया रानी,  कैसे गाये मेघ मलहार
तीज त्यौहार,सभ्यता तो आधुनिकता से पाट दिये
!
!
!
डी के निवातिया

16 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 26/07/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 04/08/2017
  2. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 26/07/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 04/08/2017
  3. Anderyas Anderyas 26/07/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 04/08/2017
  4. arun kumar jha arun kumar jha 26/07/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 04/08/2017
  5. C.M. Sharma babucm 27/07/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 04/08/2017
  6. आनन्द कुमार आनन्द कुमार 28/07/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 04/08/2017
  7. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 01/08/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 04/08/2017
  8. Shyam Shyam tiwari 06/08/2017
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 09/08/2017

Leave a Reply