जब से तुम्हे देखा

शीर्षक-जब से तुम्हे देखा
जब से तुम्हे देखा
दिल का परिंदा हवाबाज हुआ
धक्-धक् सा आवाज हुआ
दिल के कागज पे
तेरा- मेरा हिसाब हुआ
जब से तुम्हे देखा
चाहतो के समन्दर पर
तेरे हुस्न की लहरों का राज हुआ
आँखों का नींद से किनारा हुआ
तकियों से दिल को सहारा हुआ
कुछ मेरे साथ हुआ
कुछ तेरे साथ हुआ
बीतते लम्हों के संग बेचैन हुआ
तुझे खोने का डर हुआ
जब से तुम्हे देखा
दिल में तेरा नाम रहा
जुबान कहने से नाकाम रहा
आँखों को तुम्हे देखने के सिवा
ना कोई काम रहा
जब से तुम्हे देखा
दिल बेचारा खुद को
पहचानने से अनजान रहा–अभिषेक राजहंस

6 Comments

  1. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 25/07/2017
  2. Sunder Devi 25/07/2017
  3. ऋषि के.सी. rishi 25/07/2017
  4. C.M. Sharma babucm 26/07/2017
  5. shivdutt 26/07/2017
  6. arun kumar jha arun kumar jha 26/07/2017

Leave a Reply