आँसुओं में खो न जाए कहीं – अनु महेश्वरी

अनमोल होती है ज़िन्दगी अपनी,
देखो आँसुओं में खो न जाए कहीं|

रोकर हुआ न हासिल कुछ किसी को,
ज़िन्दगी की ख़ुशी, मुस्कुराहट में छिपी|

गमो के साथ भी अगर मुस्कुराना सिखले,
ज़िन्दगी का बोझ भी फिर कम होने लगे|

खुश रहने की आदत अगर पर जाएगी,
फिर कभी देखना, मायूसी छू न पाएगी|

चार दिन की है बस ज़िन्दगी अपनी,
देखो आँसुओं में खो न जाए, कहीं|

 
अनु महेश्वरी
चेन्नई

14 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 25/07/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 03/08/2017
  2. C.M. Sharma babucm 25/07/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 03/08/2017
  3. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 25/07/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 03/08/2017
  4. rishi 25/07/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 03/08/2017
  5. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 26/07/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 03/08/2017
  6. raquimali raquimali 26/07/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 03/08/2017
  7. arun kumar jha arun kumar jha 26/07/2017
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 03/08/2017

Leave a Reply