नया बवाल – डी के निवातिया

नया बवाल ! न जाने लोगो ने जहन में क्या पाल रखा है, जिसे देखो सबके पास नया बवाल रखा है, फिक्रमंद जो दिखते ज्यादा मुल्क के लिए उन्होने …

शोलो से लड़ना होगा – डी. के. निवातिया

शोलो से लड़ना होगा *** सहते – सहते, सह  रहे है हम, सदियों से आतंक की अठखेलियां, कितने आये कितने गए सत्तारूढ़ बुझा रहे आजतक सिर्फ पहेलियाँ, कुछ तो …

मेरी याद तो आती रहेगी  ……   भूपेन्द्र कुमार दवे

मेरी याद तो आती रहेगी   मेरे जाने के बाद मेरी याद तो आती रहेगी आँसू की ओट से चुपके छिपाती वो आती रहेगी।   मुरझाये हुए फूलों से …

देखूँ जिस ओर   … भूपेन्द्र कुमार दवे

देखूँ जिस ओर       देखूँ जिस ओर तो मुझको श्रंगार अनूठा दिखता है। देखूँ जिस ओर तो मुझको संसार अनौखा दिखता है।   वह मँड़राते फिरते भ्रमरों का …

शहादत – बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा – बिन्दु

गद्दारों को फांसी दे दो, भीतर  घात  जो  करते हैं अपने वतन के  खाते हैं , गले दुश्मन  के लगते हैं। सबसे पहले घर को देखो, युद्ध फिर तुम …

बलिदान – बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा – बिन्दु

चूड़ी रोयी – रोया कंगना, बिंदी माथ की गिर गयी अंगना सुहागन की सिंदूर लुटा है, चित विह्वल से करती क्रंदना। सूनी हाथों की मेहदी है , बिखर गये …

मेरी फितरत – शिशिर मधुकर

मुझे तू प्यार करता है तो मैं सिमटी सी जाती हूँ खुशी से झूम उठती हूँ लाज संग मुस्कुराती हूँ मेरे मन में उमंगों का बड़ा सा ज्वार उठता …

जाने कब क्या सही होगा

जाने कब क्या सही होगा ये वक़्त और कितना इंतज़ार कराएगा क्या कुछ मेरा भी होगा या उम्मीदों की छत जमीन हो जाएगी किस्तों में जी रहा हूं साँसे …

व्यर्थ ना जाने देगे कुर्बानी-Bhawana kumari

आज कोई शब्द नहीं,कोई भाव नहीं, ना चल रही क़लम मेरी आज, नि:शब्द हो मेरी कलम आज, बस इतना ही लिख रही हर बार लेखनी आज, ना भूल पाऐगे …

आगोश

तुम आगोश में आ जाओ तुम्हें दिल में बसा लूँगा नैनों के रास्ते से तुम्हें झील में उतार लूँगा   झूमेंगे हम दोनों पानी तुम्पे उछालूँगा मोहब्बत की डोरी …